क्राइम ग्राफ़: जनपद में 12 दिन में ‘इरादतन-गैर इरादतन’ 12 हत्याएँ

रवि पाल

मथुरा। कान्हा की नगरी में 12 दिन के अंदर इरादतन और गैर इरादतन 12 हत्याएँ दर्ज हुई हैं। इनमें दो अज्ञात शव भी बरादम हुए हैं। जबकि नौहझील क्षेत्र में तीन भट्टा मजदूरों की मौत के मामले में गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज हुआ है।

ज्ञातव्य है कि 16 दिसम्बर को यमुना एक्सप्रेस-वे के राया कट और गोवर्धन के गैस्ट हाउस में दो युवकों की हत्या कर दी गई थी। 19 दिसम्बर को कोसीकलां में गोली मारकर कार सवार महिला की हत्या हुई थी। 22 दिसम्बर को नौहझील क्षेत्र में पूर्व प्रधान के पुत्र की गोली मारकर हत्या कर दी गई। 23 दिसम्बर को बल्देव क्षेत्र में किसान का शव पेड़ पर लटका मिला था। 24 दिसम्बर को मृतकों में भीम पुत्र शरबत बाबरी उम्र 35 वर्ष, राजकुमार पुत्र शरबत बाबरी उम्र 32 वर्ष तथा रूपचंद पुत्र सुरेंद्र बाबरी उम्र 30 वर्ष हैं।

भीम तथा राजकुमार सगे भाई हैं जबकि रूपचंद, भीम और राजुकमार का साला था। तीनों मजदूर मलकरा थाना कतरास, जिला धनबाद (झारखंड) के रहने वाले थे। मृतक भीम की पत्नी की तहरीर पर भट्टा संचालक के परिजन के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज हुआ था। 27 दिसम्बर को वृंदावन की चैतन्य विहार कॉलोनी स्थित सीताराम महिला आश्रय सदन में महिला की जलकर मौत हो गई।

जाँच के लिए पहुँची पुलिस और फॉरेंसिक टीम को घटनास्थल पर एक माचिस पड़ी मिली। पुलिस हत्या की आशंका व्यक्त कर रही है। 27 दिसम्बर को ही महावन के श्रीकृष्ण इंटर कालेज के पीछे युवक की लाश मिलने से सनसनी फैल गई। शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है। शव के पास से फाॅरेंसिक टीम ने जो साक्ष्य जुटाए हैं उन्हें लेकर पुलिस टीमें जांच में जुट गई हैं। मृतक युवक के शिर पर चोट के निशान हैं। इससे ऐसा प्रतीत हो रहा है किसी ने हत्या कर शव को ठिकाने लगाने का प्रयास किया है। इस बीच दो अज्ञात शव भी बरामद हुए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *