निलोफर बानो की कलम से – न खुदा ही मिला न बिसाले सनम

निलोफर बानो “नीलो”/अनुपम राज.
कभी उत्तर प्रदेश की राजनीति को प्रभावित करने की ताकत रखने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा की न अपने सुन रहे हैं, न दूसरे पनाह दे रहे हैं। कभी कुर्मी वोटों के सौदागर हुआ करते थे बेनी बाबू, लेकिन उनके जिले मे ही एक सैकड़ा लोग भी उनके साथ खड़े होने के लिए तैयार नहीं हैं। अरविंद सिंह गोप ने उनकी उस जमीन पर भी कब्जा जमा लिया।

उन्होने जब समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से रामपुर विधानसभा से टिकट देने को कहा, तो उन्होने वहाँ से अपने प्रबल समर्थक अरविंद सिंह गोप को टिकट देकर उनके बेटे को क़ैसरगंज से टिकट दे दिया। इसे उन्होने अपना अपमान माना। कांग्रेस के साथ अखिलेश का गठबंधन होने के कारण वे वहाँ जा नहीं सकते थे, इसलिए भारतीय जनता पार्टी का दरवाजा खटखटाना शुरू कर दिया। उन लोगों ने भी न तो दरवाजा खोला और न ही उनके बेटे को बाराबंकी की रामनगर सीट से टिकट ही देने पर राजी हुये। अब तो बेनी वर्मा के बारे मे यही कहा जा सकता है कि न खुदा ही मिला, न बिसाले सनम ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *