सीएचसी सियर में फुट रहा जनता का गुस्सा, आखिर ज़िम्मेदार कौन ?

उमेश गुप्ता

बिल्थरारोड (बलिया)। इस समय लोक सभा चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। इस मौके पर स्थानीय सीएचसी पर मनमानी पूर्ण रवैया के चलते अनुशासन विहीन अस्पताल बन गया है। मंगलवार की प्रातः अकेले चीफ फर्माशिष्ट महेश चन्द पाण्डेय मरीज काउण्टर पर पर्ची बनाने के साथ-साथ दवा वितरण का काम भी देख रहे थे। पर्ची बनने में विलम्ब होने को लेकर मरीजो ने हंगामा खड़ा कर दिया।

अधीक्षक डा0 जीपी चौधरी से जब बात के दौरान जानकारी मिली कि यहां किसी स्टाफ नर्स की व अन्य की ड्यूटी का रोस्टर अनुपलब्ध है। स्टोर में दवाओं के अभाव में चिकित्सकों को बाहर की दवा मजबूरन लिखने के कारण उन्हें मरीजों के आक्रोश का शिकार भी होना पड़ रहा है। इस सीएचसी पर प्रतिदिन 450 नये रोगी व 200 से ऊपर पुराने रोगियों का उपचार चिकित्सकों द्वारा किया जाता है। एक-एक कक्ष में तीन-तीन चिकित्सक बैठकर मरीजों का उपचार करते है। उन्हें बैठने तक के लिए स्थाई जगह नही है।

चर्चा है कि कितने कर्मचारी ऐसे हैं जिनकी दूसरा कोई हाजिरी लगाता है। और वे माहवारी रकम बांध कर प्राईवेट नर्सिग होम में डृयुटी कर दोहरा लाभ अर्जित करते हैं। इस समस्या का हल निकालने के लिए बायोमैट्रिक सिस्टम के जरिये स्वास्थ्यकर्मियों की हाजिरी होनी थी। लेकिन प्रशासनिक उदासीनता व नीजी लाभ के कारण यह ब्यवस्था प्रशासनिक स्तर पर अधर में लटका पड़ा है। चिकित्सको के चेम्बर में मानक के अनुसार सुविधाओं का घोर अभाव चला आ रहा है। जब कि सूत्रों की माने तो सालाना खर्च में सम्बन्धित सभी विल पास करा लिये जाते हैं।

विभागीय स्तर पर देखी जाय तो आये दिन अधीक्षक डा0 जीपी चौधरी बलिया मुख्यालय पर रहते हैं। उन्हें जिले के दवा स्टोर का अतिरिक्त चार्ज भी दिया गया है। यहां सुपरविजन के लिए कोई अधीकृत अधिकारी न रह गया है और न किसी चिकित्सक को अधिकार ही दिया गया है।

यहां मरीजों की संख्या को देखते हुए 6 की संख्या में वार्ड ब्वाय तैनात थे किन्तु अब मात्र 2 बच गये हैं। यहां 10 स्टाफ नर्स की भी तैनाती हो चुकी है। कार्यालय बाबू अक्सर गायब मिलते हैं, लेकिन उनकी हाजिरी लगाने पर कोई रोक टोक नही रहती। एक बाबू अनिल कुमार चैधरी की तैनाती तो की गयी है लेकिन अन्दरखाने की गड़बड़ी के कारण उससे कोई काम नही लिया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *