बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड चैंपियन पी.वी.सिंधु ने पीएनबी मेटलाइफ जेबीसी के विजेताओं को किया सम्मानित

संजय ठाकुर

दिल्ली – भारत के टाप 10 निजी जीवन बीमाकर्ता कंपनियों में शामिल (वित्त वर्ष 2019 में, स्रोत-क्रिसिल), पीएनबी मेटलाइफ इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पीएनबी मेटलाइफ) द्वारा आयोजित पीएनबी मेटलाइफ जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप का पांचवां संस्करण, इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम (दिल्ली) में शानदार सम्मान समारोह के साथ संपन्न हुआ।

भारत के 10 शहरों के पांच आयु श्रेणियों – अंडर-9, अंडर-11, अंडर-13, अंडर-15 और अंडर-17 के 9,500 से अधिक प्रतिभागियों में से विजेताओं एवं उप-विजेताओं को सम्मानित किया गया। इस आयोजन के दौरान जेबीसी बूट कैंप की बढ़ती लोकप्रियता भी उजागर की गयी। जेबीसी बूट कैंप एक विशेष प्रकार से तैयार किया गया यूट्युब चैनल है, जो ट्युटोरियल प्रोग्राम चलाता है, ताकि बैडमिंटन से जुड़ी महात्वाकांक्षी प्रतिभाओं को बैडमिंटन एक्सपर्ट्स द्वारा बताई गई तकनीकों, सुझावों एवं ट्रिक्स के जरिए अपने कौशल को निखारने एवं उसे बढ़ाने में मदद मिल सके और वो इस खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सकें। जेबीसी बूट कैंप को दो महीने पहले ही हैदाबाद में पीएनबी मेटलाइफ जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप – सीजन 5 के लाॅन्च के साथ-साथ शुरू किया गया था।

बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड चैंपियन, ओलंपिक पदक-विजेता एवं पीएनबी मेटलाइफ के ब्रांड एंबेसडर, पी.वी.सिंधु, पंजाब नेशनल बैंक के एमडी एवं सीईओ, सुनील मेहता और पीएनबी मेटलाइफ के एमडी व सीईओ,आशीष कुमार श्रीवास्तव द्वारा विजेताओं को सम्मानित किया गया।

बैडमिंटन को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के उद्देश्य से, पीएनबी मेटलाइफ द्वारा अभावग्रस्त बच्चों को वार्षिक छात्रवृत्ति प्रदान की जा रही है, ताकि वो बैडमिंटन खेलना जारी रख सकें। इस वर्ष, 32 अभावग्रस्त बच्चों को ऐसी वार्षिक छात्रवृत्तियां प्रदान की गईं। पीएनबी मेटलाइफ ने अपने सीएसआर पार्टनर, चाइल्ड राइट्स ऐंड यू (क्राइ) के साथ मिलकर पीएनबी मेट लाइफ ने जिन 100 बच्चों को प्रशिक्षण प्रदान किया था, उनमें से 32 बच्चों को जेबीसी टूर्नामेंट में उनके प्रदर्शन के आधार पर चयन किया गया। वार्षिक छात्रवृत्ति में प्रोफेशनल प्रशिक्षण, खेल उपकरण, पोषण एवं खेल से जुड़े अन्य खर्चों की लागत को कवर किया जायेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *